वेब स्टोरीज की वजह से क्यों एडसेन्स अकाउंट ससपेंड हो रहे है जाने

वेब स्टोरीज की वजह से क्यों एडसेन्स अकाउंट ससपेंड हो रहे है जाने

बीते दो weeks  में काफी सारे दोस्तों ने वेब स्टोरीज़ की वजह से ऐडसेंस अकाउंट के सस्पेंड होने की समस्या के बारे में बताया है समस्या को देखते हुए मैंने भी वही किया जो आप सारे लोग करते हैं यूट्यूब पर सर्च किया और काफी सारे मासूमों के आधे कच्चे वीडियो देखे तो मुझे कन्फर्म हो गया कि ये समस्या जेन्यूइन है.

वेब स्टोरीज की वजह से क्यों एडसेन्स अकाउंट ससपेंड हो रहे है जाने

गिद्ध वही पे दिखाई देता है जहाँ पर कुछ अनहोनी हो गयी होती है या फिर होने वाली होती है  पहले इन्हीं लोगों ने आपको विडीओ चिपकाएँ कि देखो, वेब स्टोरीज़ बनाकर फलानी कुमार ने किया लाख रुपये छाप लिए और अब ये वीडियो बना रहे हैं कि वेब स्टोरी से अकाउंट सस्पेंड हो रहे है. ना वो सही था ना ये सही होगा भाई करेले की मिठाई नहीं बन सकती है, चाहे आप ठेले वाले से लो या बिगबास्केट से ऑर्डर करदो करेला करेला ही रहेगा 

सो प्रॉब्लम इस वेब स्टोरीज़ की वजह से ऐडसेंस अकाउंट सस्पेंड नहीं हो रहा है अकाउंट सस्पेंड तब होता है जब आप पॉलिसीस को वाइल लेट करते हैं या फिर पढ़ते ही नहीं एक चैनल बनना चाहिए जिसमें विडिओ होना चाहिए   कि ग्यारह साल के लड़के ने गूगल ऐडसेंस की सारी पॉलिसीस पढ़ के 45 लाख रुपये छाप लिए.

 तब शायद बहुत सारे लोग पॉलिसीस पड़ने? लगेंगे स्टोरी से प्रॉब्लम कुछ नहीं है वेब स्टोरीज़ क्या है एक पेज ही तो है पोस्ट भी एक पेज है पेज भी एक पेज है वेब स्टोरी भी एक पेज है इसका भी एक होता है ब्राउज़र में रेंडर होता है, मिसेस होती है, जावास्क्रिप्ट होता है और क्या है? सो वेब स्टोरीज़ भी एक पेज ही है और गूगल ऐडसेंस के जो भी रूल एक नॉर्मल पेज पर लगते हैं वहीं स्टोरीज़ पर भी लगते हैं ठीक हैं 

अगर आप किसी पेज में कॉपी पेस्ट किया हुआ कॉन्टेंट चिपकाएंगे तो क्या होगा? जो भी आपका आन्सर होगा ना वही सेम स्टोरी पर भी लगेगा सो वेब पेज वाली सारी की सारी सावधानियां आपको वेब स्टोरीज़ पर भी रखनी चाहिए गूगल ऐडसेंस की पॉलिसीज के डॉक्यूमेंट में एक पेज है

 डिटेल जिसमें इनवैलिड ट्रैफिक को काफी डिटेल से समझाया गया है इसका लिंक आपके इस niche में मिल जायेगा अगर आप ब्लॉगिंग कर रहे हैं या करना चाहते हैं तो उसे जाके जरूर पढि़ए काफी सारे दुख दर्द से आप बच जाएंगे सो, इस पेज में वैसे तो काफी सारे रीज़न दिये गए हैं 

लेकिन तीन सबसे ज्यादा इम्पोर्टेन्ट रीजन्स जो वेब स्टोरीज़ पर आ सकते हैं उन्हें डिसकस करना होगा हमें यह तीन Point  है 

1. Copyright infringement
2. Manipulating how ads are served
3.Deceptive ad placement

अभी तक जितनी भी कंप्लेंट मैंने देखी है, उनमें ये तीन point  सबसे ज्यादा मिले हैं बाकी जो जनरल issu है, लाइक अपने ही Ad पर click ना करना, लो क्वालिटी, ट्रैफिक ना लाना वगैरह वगैरह वो है ऑलरेडी अप्लाइड है but ये तीन issu काफी ज्यादा देखने को मिल रहा है तो ये एक एक करके देखते हैं

1.What Is theCopyright infringement

कॉपीराइट अगर आप किसी और के कॉन्टेन्ट को कॉपी कर रहे हैं, उसकी इमेज को यूज़ कर रहे हैं, वीडिओज़ को यूज़ कर रहे हैं तो कॉपीराइट कर रहे हैं और ऐसे ट्रैफिक को गूगल इनवैलिड मानेगा जब किसी और के काम को आप चाहे वो आर्ट हो, स्टोरी हो,

टैक्स हो, इमेज हो, वीडियो ऑडियो होगा ना हो कुछ भी हो उसे बिना प्रॉपर परमिशन के आप यूज़ करते हैं तो आप Galt काम कर रहे हैं 

और जब आप इस इल्लीगल पेज में गूगल ऐड को जोड़ देते हैं तो आप गूगल को भी इस इलीगल काम में पार्टनर बना लेते है और गूगल कैसे चाहेगा कि आप उसे इलीगल काम में पार्टनर बनाए? आपका कोई दोस्त है? सपोज़ अगर वो चोरी कर रहा है

 और जब वो पुलिस पकड़ने आए उसे तो आप का भी नाम ले ले तो चलेगा आपको ऑब्वियस्ली नहीं चलेगा सो अगर आप वेब स्टोरीज़ बना रहे हैं तो किसी और की इमेज एस या टैक्स मत कॉपी करिए कुछ महान आत्माएं ऐसी भी हैं जो इमेज को कॉपी नहीं कर रही है डाउनलोड करके सेव करके अपलोड नहीं करती बल्कि सीधे Orignal  साइड से URL से उठा रही है इतना आती काटो तो नहीं बचेगा ना कौन सस्पेंड हो ही जाएगा 

2.What Is the Manipulating how ads are served

जब भी कोई अपनी वेबसाइट पर वेब स्टोरीज़ को इस तरह से पोस्ट करता है, जो ऐड्स के वेबसाइट में होने को गलत तरीके से अफेक्ट करें तो उसे गूगल Manipulating मानता है 

इसके कुछ चार एग्जाम्पल में देता हूँ एक्साम्पल 

Exmples

  1. आपकी वेबसाइट है फाइनैंस के बारे में ok और आप वेब स्टोरीज़

डाल रहे हैं किसी लेटेस्ट रिलीज मूवी के बारे में या मोबाइल फ़ोन के बारे में बिकॉज़ आपको किसी ने बताया है कि भाई इससे अच्छा ट्रैफिक मिल रहा है और आप डाल देते हैं तो ये हो गया मैनिपुलेशन बिकॉज़ आपकी वेबसाइट तो है. 

फाइनैंस के बारे में फिर आप मूवीज़ के बारे में स्टोरी क्यों बना रहे हैं? बिकॉज़ आपको सिर्फ वेब स्टोरी से ट्रैफिक चाहिए, बट आपका जो ट्रैफिक मिलेगा आपको उसका कन्वर्जन रेट एकदम कूड़ा होगा बिकॉज़ आपकी वेबसाइट फाइनैंस के बारे में जो आपका ऑडियंस है.

वो फाइनेन्स के बारे में तो ये हो गया इनवैलिड ट्रैफिक एग्जाम्पल 

  1. आपकी वेबसाइट है इंडियन ऑडियंस के लिए लेट से हिंदी में एग्ज़ैम पेपर्स की शीट वगैरह के बारे में और आप वेब स्टोरी पब्लिश कर रहे हैं अमेरिकन फुटबॉल के बारे स्टोरी पब्लिश कर रहे हैं तो ये भी हो गया मैनिपुलेशन बिकॉज़ अमेरिकन ऑडियंस को इंडियन वेबसाइट से क्या मिलेगा? तो ये ट्रैफिक हो गया इनवैलिड 
  2. आप वेब स्टोरीज़ के टेक्सट में कीवर्ड स्टफिंग कर रहे हैं ताकि आपकी स्टोरी गूगल डिस्क कवर में आए ये भी मैनिपुलेशन हो गया बिकॉज़ आपकी वेब स्टोरी डिस्कर में आनेलायक है नहीं, लेकिन आप कीवर्ड ठोस कर उस स्टोरी को डिस् कवर में लाते हैं ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग उस स्टोरी को देखें और आपका ऐड रेवेन्यू बड़े इस तरीके स्टोरी और उस पर दिखाए ऐड ऐड चलाने वाली कंपनी को कन्वर्षन नहीं देते हैं तो ये ट्रैफिक भी हो गया इनवैलिड
  1. आप अपनी ओरिजनल वेब स्टोरी बनाते हैं, इमेजेज भी ओरिजनल यूज़ कर रहे हैं सबकुछ बढ़िया है लेकिन वेब स्टोरी का जो पर्पस है, वेबसाइट पर ट्रैफिक लेकर जाना है वेब स्टोरी का अपने आप में कंप्लीट होना जरूरी है आप अपनी साइट के पेजेस को स्टोरी के जरिए प्रोमोट नहीं कर सकते हैं

 गूगल ये नहीं चाहता है की आप स्टोरी को क्लिकबेट की तरह यूज़ करें और फिर स्टोरी के देखने के बाद यू सर को ऐक्चुअल कॉन्टेंट पढ़ने के लिए वेब साइट के पेज को विजिट करना पड़े इस तरह की वेब स्टोरीज़ ऑलरेडी कमर्शलाइज हो चुकी है क्योंकि उससे एक फायदा तो आप ऑलरेडी ले रहे हैं, अपनी वेबसाइट को प्रोमोट कर रहे हैं, 

अपनी वेबसाइट पर ट्रैफिक लेकर आ रहे हैं तो आप बना सकते हैं ऐसी स्टोरी, लेकिन उस पर ऐड लगाने से प्रॉब्लम होगी अगर ऐसा होता है तो फिर वेब स्टोरी का कोई रिले यूज़ नहीं बचेगा और ट्रैफिक क्या हो जाएगा इनवैलिड 

स्टोरी के ट्रैफिक को मैनिप्युलेट करने से बचें, जिससे इंटरैक्शन रियल हो इन टेंशन हो और एडवर्टाइजर्स को ज्यादा फायदा मिले 

3. What Is The Deceptive ad placement

डिसेप्टिव ऐंड placement का सीधा मतलब ये होता है कि आपको ऐड इस तरह से प्लेस नहीं करने चाहिए कि वेबसाइट विज़िटर गलती से ऐड्स पर क्लिक कर दें इस तरह के click होने पर भी यू सर एक्चुअली मैं परचेस नहीं करता है ऐड पर कोई क्लिक करने से कोई फायदा नहीं होता है बट कई बार ऐसा भी होता है की आप ऐड्स का प्लेसमेंट सही कर रहे हैं 

आप ऐसा भी नहीं है की जो ऐड्स का टैक्स है या जो इमेज है, उसी तरह की अपनी स्टोरी को आप डिजाइन कर रहे हो? बट फिर भी Deceptive ad placement

 का चार्ज लग जाता है उसका रीज़न प्यूरली टेक्निकल है कुछ लोग अपने ऐडसेंस कोड को गलत तरीके से कस्टमाइज करते हैं, जो गूगल की गाइडलाइन्स के अगेन्स्ट है अगर आप अपनी वेबसाइट पर चाहे वो वेबपेजेस हो या स्टोरी हो, 

आप ऐडसेंस कोड को कस्टमाइज़ कर रहे हैं तो गूगल के इस पेज को ध्यान से स्टडी करिये और इसके हिसाब से ही कोर्ट को कस्टमाइज़ करने के बाद उसेयूज़ करिए वरना गूगल आपके अकाउंट में Deceptive ad placement

का एरर लगाएगा और आपके ट्रैफिक को इनवैलिड बताकर अकाउंट को डिसेबल कर सकता है 

तो इन तीन issu को अच्छे से समझने के बाद ही वेब स्टोरीज़ पर ऐड्स रन करिए ताकि आपका अकाउंट सेफ रहें और एक जो जनरल अड्वाइज़ में हमेशा देता हूँ, उसे फॉलो करे आप सुखी रहेंगे की ये हाइ पैसा ही पैसा जो करने वाली जो टेंडेंसी होती है ना उससे किसी का भला नहीं होता है जो भी आपको लाखों करोड़ों की इनकम का प्रूफ दिखाते हैं ना उनके स्क्रीन शॉट की तरफ मत देखिये ये देखिये की वो बोल क्या रहे है?

 अगर वही घिसा पीटा कॉपी पेस्ट बिना मेहनत का, बिना स्किल का फलानि माँ का वाली चीजें है तो फिर इस तरह के तिकड़म का एक ही नतीजा होता है नुकसान आज नहीं होगा तो कल होगा सो Web स्टोरी से डरने की जरूरत नहीं है अच्छी स्टोरी बनाये

by Mahi Mahi is the Author & Co-Founder of the Openplus.in. He has also completed his graduation in Computer Engineering from Delhi

Leave a Comment